Poetry | Harish Darvesh | Basti,| UP

महँगा लिबास कार पे माला गुलाब की – हरीश दरवेश

महँगा लिबास कार पे माला गुलाब की यह ग़ज़ल श्री हरीश दरवेश साहब की जदीद ग़ज़लों में से एक है। श्री हरीश दरवेश जी उत्तर प्रदेश के बस्ती नामक जगह से आते हैं। जनाब हरीश दरवेश साहब ने अदम गोंडवी और दुष्यंत कुमार जैसे गज़लकारों की परंपरा को आगे बढ़ाया है। यह उनकी ग़ज़ल में …

samra

समरा : शायर – समर कबीर

समरा: वारिस-ए-क़मर का सरमाया मोहतरम जनाब समर कबीर साहब के वालिद मरहूम जनाब क़मर साहब एक आला दर्ज़े के शायर थे; यानि ग़ज़लगोई जनाब समर कबीर साहब के खून में है और उनकी ग़ज़ल का हर शे’र इस बात की तस्दीक़ भी करता है। समरा- एक सौ बारह पृष्ठ, तक़रीबन सौ ग़ज़लें; फ़क़त इतना ही …

दिल के ज़ख्मों से उठी जब से गुलाबी ख़ुशबू – निलेश नूर

दिल के ज़ख्मों से उठी जब से गुलाबी ख़ुशबू “दिल के ज़ख्मों से उठी जब से गुलाबी ख़ुशबू” निलेश नूर भाई की यह ग़ज़ल सबसे पहले मैंने ओबीओ पर पढ़ी थी।  बेहद मुश्किल रदीफ को  उन्होंने बड़ी आसानी से निभाया है। बहर 2122 1122 1122 22 पर  लिखी इस ग़ज़ल का हर शे’र मानीख़ेज़ है। ग़ज़ल …