टॉप 10 शेर – निदा फाज़्ली : उर्दू साहित्य की महान शख़्सियत

Top 10 Sher Nida Fazli टॉप 10 शेर, निदा फ़ाज़्ली साहिब के। उर्दू साहित्य की महान शख्सियत। निदा फ़ाज़्ली साहिब बरसों तक गज़ल की दुनिया में सक्रिय थे। उन्होंने फिल्मों के लिए भी कई यादगार गीत और ग़ज़लों की रचना की थी। फिल्मों में काम करने के बावजूद उन्होंने अपनी मौलिकता बरकरार रखी थी। निदा …

पुस्तक समीक्षा : पृथ्वी के छोर पर, लेखक – शरदिंदु मुखर्जी

पृथ्वी के छोर पर: अंटार्कटिका का सर्द एवं रोमांचक अहसास “अंटार्कटिका के वैज्ञानिक तथ्यों से इसे बोझिल बनाना मैंने उचित नहीं समझा। उसके लिए पाठक को बहुतेरे प्रामाणिक और उत्कृष्ट ग्रंथ उपलब्ध कराए जा सकते हैं।“ लेखक श्री शरदिंदु मुखर्जी जी द्वारा लिखी गयी किताब पृथ्वी के छोर पर का पूरा सार के इन शब्दों …

वक़्त आने पे किधर से भी निकल जाऊँगा – रोहिताश्व मिश्र

वक़्त आने पे किधर, ग़ज़ल, रोहिताश्व मिश्रा बहर 2122 1122 1122 22 बहर पर कही गई वक़्त आने पे किधर, ग़ज़ल, रोहिताश्व मिश्रा जी की एक खूबसूरत ग़ज़ल है। रोहिताश्व मिश्रा एक प्रतिभाशाली ग़ज़ल गो हैं, जो साथी ग़ज़ल गो और ग़ज़ल प्रेमियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। खूबसूरत अशआर से सजी इस ग़ज़ल को …

एक मुट्ठी आसमाँ बाक़ी रहा – समीर परिमल

एक मुट्ठी आसमाँ बाक़ी रहा, ग़ज़ल, समीर परिमल बहर 2122 2122 212 पर कही गई एक मुट्ठी आसमाँ बाक़ी रहा, ग़ज़ल, समीर परिमल साहिब की बेहतरीन गज़लों में से है। बेहतरीन रवानी, लाजवाब कहन और सधे हुए शिल्प का बेमिसाल उदाहरण है समीर परिमल साहिब की यह गज़ल। एक मुट्ठी आसमाँ बाक़ी रहा हौसलों का कारवाँ …

अब्र ने चाँद की हिफ़ाजत की – संजू शब्दिता

अब्र ने चाँद की हिफ़ाजत की संजू शब्दिता इलाहाबाद की एक प्रतिभाशाली शायरा हैं। उनकी प्रतिभा की झलक इस ग़ज़ल में नज़र आ जाती है। खूबसूरत मतले से शुरूअ होकर आखिरी शे’र तक संजू शब्दिता ने अपनी छाप छोड़ी है। यह ग़ज़ल उन्होंने बहर 2122 1212 22 पर कही है। अब्र ने चाँद की हिफ़ाजत …