डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म के विकास के साथ आज के ग़ज़लकारों को मौका मिला है कि वे अपनी तख़्लीक़ लोगों तक पहुँचा सकें और अच्छी रचनाएँ स्वयं भी पढ़ सकें। इसी कड़ी में विगत दो वर्षों में ग़ज़ल गो डॉट कॉम ने योगदान देने की कोशिश की है। यदि रचनाकार जिनकी किताबें विशेषकर ग़ज़ल संग्रह शाया हो रही हो या हाल ही में शाया हो चुकी हो, वे उसकी समीक्षा गज़ल-गो डॉट कॉम पर प्रकाशनार्थ आमंत्रित हैं। इसके लिये अग्रलिखित बिन्दुओं पर एक नज़र डालें-

  • connect@ghazal-go.com पर समीक्षाएँ भेजें
  • ग़ज़ल संग्रह को प्राथमिकता दी जाएगी
  • समीक्षा विधा विशेष के जानकार द्वारा की गई हो
  • समीक्षक का संक्षिप्त परिचय निम्न बिन्दुओं के अनुसार
  • नाम, पता, मोबाइल नंबर, समीक्षक व लेखक का सोशल मीडिया प्रोफाइल(फेसबुक हो तो बेहतर है) लिंक, साहित्य में योगदान
  • यदि समीक्षा ग़ज़ल संग्रह की हो तो किताब में प्रकाशित ग़ज़लों में से पाँच ग़ज़लें भी गज़ल गो हेतु भेजें
  • किताब अमेज़न में या किसी अन्य ऑनलाइन स्टोर में उपलब्ध हों तो लिंक भेजें
  • यदि समीक्षा ग़ज़ल गो से चाहते हों तो समीक्षार्थ किताब की प्रति चर्चा के उपरान्त भेजें, अन्यथा आवश्यक नहीं है
  • यह ध्यान रखें यह वेबसाइट गैर व्यावसायिक है, इसलिए कोई मानदेय न लिया न दिया जाता है। अलबत्ता सोशल मीडिया में प्रमोशन आदि का खर्च स्वयं वेबसाइट के संचालक द्वारा वहन किया जाता है