- दरवेश भारती

नारे विकासवाद के लाते रहे बहुत – दरवेश भारती

नारे विकासवाद के लाते रहे बहुत
नारों को नारेबाज़ भुनाते रहे बहुत

सचमुच के मोतियों से भरा घर मिला उन्हें
जो मोतियों-सी बातें लुटाते रहे बहुत

हँस-हँस के जो भी करते रहे मर्हलों को सर
एज़ाज़ उम्र-भर वही पाते रहे बहुत

ता’बीर पा सका न कोई, बात है अलग
आँखों में ख़्वाब यूँ तो समाते रहे बहुत

हासिल न हो सका बड़े-बूढ़ों को सुख कभी
चाहे सपूत उनके कमाते रहे बहुत

करते भरोसा किसपे, कहाँ थे भरोसेमन्द
दो-चार थे, वो नाज़ दिखाते रहे बहुत

इन्सानियत के पहरुओं का पूछिए न हाल
‘दरवेश’ पहरुए ये रुलाते रहे बहुत

दरवेश भारती
आर ज़ेड डी-38, निहाल विहार, नांगलोई,
नयी दिल्ली-110041, मो. 9268798930

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *