OBO|Live Tarahi|Ghazal|Mohammad Arif|Ghazal-go
मो. आरिफ़

ओबीओ लाइव तरही-100/मो. आरिफ़

पेश है ओबीओ लाइव तरही-100 में उज्जैन के शाइर मो. आरिफ़ साहिब की गज़ल

मेरी क़ीमत बता गया है मुझे

OBO|Live Tarahi|Ghazal|Mohammad Arif|Ghazal-go

मेरी क़ीमत बता गया है मुझे
राह से वो हटा गया है मुझे

क़ब्ल मरने के वो ये कहने लगा
ये तकब्बुर मिटा गया है मुझे

जिसकी रग-रग में झूठ पिन्हाँ है
आइना वो दिखा गया है मुझे

तुम नहीं हो मेरे मुक़द्दर में
इक नजूमी बता गया है मुझे

कोई आँखों में डाल कर आँखें
जाम-ए-सहबा पिला गया है मुझे

ओबीओ ने दिया है ये मिसरा
“सब्र करना तो आ गया है मुझे”

एक शब आके ख़्वाब में “आरिफ़”
कोई ख़ुद से मिला गया है मुझे

कोई आँखों में डाल कर आँखें
जाम-ए-सहबा पिला गया है मुझे

-मो. आरिफ़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *