jheel aankhon aaina roshan ravi shukla

झील सी आँखों में कोई आइना रोशन करें – रवि शुक्ल

झील सी आँखों में कोई आइना रोशन करें यानी इक हैरानियों का सिलसिला रोशन करें दश्त की तन्हाइयों में हैं अगर तारीक़ियाँ बात करने के लिए इक तज़किरा रोशन करें पत्थरों ने कब किये हैं हल मसाइल क़ौम के आओ मिलकर अम्न की हम इक दुआ रोशन करें हो गए गर दूर रिश्ते कल तलक …